48 सीटर विमान उतारने के हिसाब से होगा मंदुरी हवाई पट्टी पर बदलाव

आजमगढ़- मंदुरी हवाई पट्टी पर बदलाव की तैयारी अब 48 सीटर विमान उतारने के हिसाब से की जाएगी। एयरपोर्ट अथॉरिटी आफ इंडियाके डिप्टी डायरेक्टर ने स्थानीय अधिकारियों को पत्र भेजकर हवाई पट्टी की लंबाई 1700 मीटर करने के हिसाब से जमीन अधिग्रहण का प्रस्ताव मांगा है। पहले अधिकारियों की ओर से अधूरी बाउंड्रीको पूरा करने लिए 1.34 करोड़ और आवश्यक बदलाव को 19.64करोड़ों का प्रस्ताव भेजा था। अब सभी प्रस्ताव को बदल का फिर सेभेजा जाएगा।जिले की मंदुरी हवाईपट्टी को रिजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत चुना गया है। इसे लेकर कई बार अधिकारियों के दौरे हो चुके हैं। हवाई पट्टी पर इमारत और अन्य आवश्यक बदलाव के लिए लगभग 19.64 करोड़ और अधूरी बाउंड्री को पूरा करने के लिए 1.34 करोड़ से .707 हेक्टेयर जमीन खरीदने के प्रस्ताव को शासन को भेजा जा चुका था।पहले अधिकारियों का कहना था कि मौजूदा 1400 मीटर की हवाई पट्टी पर 18 से 20 सीटर प्लेन ही उतारा जाएगा। इसके बाद हवाई पट्टी को विस्तारित कर यहां 48 से 50 सीटर प्लेन को उतारा जाएगा। अब एयरपोर्ट अथॉरिटी आफ इंडिया के डिप्टी डायरेक्टर एके पाठक ने स्थानीय अधिकारियों को पत्र भेजकर हवाई पट्टी को 1700 मीटर तक बढ़ाने के हिसाब से जमीन अधिग्रहण के प्रस्ताव भेजने का निर्देश दिया है।इसके साथ ही हवाई पट्टी पर होने वाले बदलाव में टर्मिनल भवन आदिका स्थान बदला गया है। ऐसे में इससे पहले भेजे गए सभी प्रस्ताव अब बेकार हो गए है और अब फिर से प्रस्ताव तैयार कर भेजा जाएगा। नये प्रस्ताव में लगभग 18.28 एकड़ जमीन के अधिग्रहण का प्रस्ताव तैयार होगा। इसमें हाईवे की तरफ 90 मीटर प्रस्तावितटर्मिनल भवन की तरफ 74 मीटर और दूसरी तरफ भी जमीन का अधिग्रहण होगा। फिलहाल नए प्रस्ताव पर अधिकारीयों ने माथापच्ची शुरू कर दी है।हवाईपट्टी और अधूरी बाउंड्री को पूरा करने के लिए पहले .704हेक्टेयर जमीन की खरीद का प्रस्ताव भेजा गया था। पहले भी किसान जमीन पर सहमति बनाने में आनाकानी कर रहे थे। विभाग की ओर से उनकी शर्ते मानने के बाद किसान तैयार हुए थे। प्रस्ताव भेजने केबाद फिर कुछ किसानों की ओर से जमीन देने से इंकार किया जा रहा था।

रिपोर्टर-:राकेश वर्मा सदर आजमगढ़

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।