सीएम योगी का विपक्ष पर हमला, बोले- पहले राम का नाम लेने पर चल जाती थी गोली, अब यूपी मे आस्था का संगम

बरेली। लोकसभा चुनाव से पहले बरेली को सीएम योगी ने 64 परियोजनाओं की सौगात दी। बुधवार को बरेली कॉलेज मैदान में आयोजित कार्यक्रम के मंच से 141.14 करोड़ की लागत से तैयार पांच परियोजनाओं का लोकार्पण और 187.29 करोड़ की 59 परियोजनाओं का शिलान्यास किया। इसके बाद जनसभा को संबोधित किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को बरेली कॉलेज मैदान में जनसभा को संबोधित करते हुए फिर एक बार मोदी सरकार का नारा दिया। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश नई पहचान बना चुका है। यूपी ने देश की रफ्तार को बढ़ाने मे अपना योगदान दिया है। उन्होंने कहा कि देश में कहीं भी जाएं, आज लोग आपका सम्मान करते हैं। आशाभरी निगाहों से देखते हैं। यूपी आज युवाओं की आजीविका का केंद्र और भारत की आस्था का केंद्र भी बना है। आस्था और आजीविका का अद्भुत संगम है। नए भारत के नया उत्तर प्रदेश है, जिसमें सुरक्षा के साथ समृद्धि भी है। बेटी और व्यापारी की सुरक्षा की व्यवस्था भी है। सीएम योगी ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि सुरक्षा का यह वातावरण क्या समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के लोग दे पाते, क्या आजीविका का प्रबंधन कर पाते? क्या आपकी आस्था का सम्मान कर पाते। ये लोग आस्था का सम्मान के नाम पर क्या करते थे। राम का नाम लेने पर ही लाठी और गोली चल जाती थी। आज आस्था का भरपूर सम्मान हो रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 500 वर्षों की अयोध्या की समस्या का समाधान हो चुका है। अयोध्या मे रामलला विराजमान हुए है। वही बरेली कॉलेज के मैदान मे हो रही सीएम की जनसभा के दौरान लोक निर्माण मंत्री जितिन प्रसाद ने कहा कि नाथ नगरी में सीएम योगी का स्वागत करता हूं। कहा- आज मैं बताना चाहता हूं कि सीएम ने कई योजना को मंजूरी दी है। नाथ नगरी में 11 सड़के 40 करोड़ की लागत की मंजूर की। दिगम्बर जैन मंदिर को बड़ी सड़क 150 करोड़ की लागत का सीएम ने स्वीकृत किया । बरेली बदायूं फ़ॉर लेन, संखा पुल मार्ग, अटामन्डा धौंरा सड़क, रुद्रपुर मार्ग भी स्वीकृत हुए। कई नई सड़क बन रही। रेलवे ओवरब्रिज 344 पर काम शुरू हुआ। बुख़ारा मार्ग पर भी काम होगा। 2024 में मोदी जी के तीसरे कार्यकाल में और विकास होगा।।

बरेली से कपिल यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।