संविधान दिवस पर जिलाधिकारी ने संविधान के प्रति कर्तव्य निष्ठा का पालन करने की दिलाई शपथ

*संविधान दिवस का उद्देश्य भारत के नागरिकों में संवैधानिक मूल्यों के प्रति सम्मान की भावना को बढ़ाना है

बरेलीजिलाधिकारी रविन्द्र कुमार की अध्यक्षता में आज संविधान दिवस के अवसर पर कलेक्ट्रेट सभागार में संविधान के निर्माता डा0 भीमराव बाबा साहब अम्बेडकर जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं पुष्प अर्पित कर सभागार में उपस्थित सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को संविधान के प्रति कर्तव्य निष्ठा का पालन करने की शपथ दिलाई गई।

जिलाधिकारी ने सभी को संविधान दिवस की शुभकामनाएं देते हुये कहा कि हर वर्ष 26 नवम्बर का दिन भारत में संविधान दिवस के तौर पर मनाया जाता है क्योंकि 26 नवम्बर 1949 के दिन देश को संविधान सभा ने मौजूदा संविधान को अपनाया गया था इसलिए इसी दिन की याद में हर साल देश में संविधान दिवस मनाया जाता है।

उन्होंने कहा कि संविधान दिवस का उद्देश्य भारत के नागरिकों में संवैधानिक मूल्यों के प्रति सम्मान की भावना को बढ़ाना है। हर भारतीय नागरिक के लिए 26 नवंबर संविधान दिवस बेहद गर्व का दिन है। संविधान में ही किसी राष्ट्र के विभिन्न सिद्धांत और उसको चलाने के तौर तरीके होते हैं। जहां संविधान में दिए गए मौलिक अधिकार हमारा ढाल बनकर हमें हमारा हक दिलाते हैं, वही इसमें दिए मौलिक कर्तव्य हमें हमारी जिम्मेदारियां भी याद दिलाती है। यह भी जानना जरूरी है कि 26 नवंबर का दिन देश में राष्ट्रीय कानून दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। हमारा देश 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ था, तब हमारे पास कोई संविधान नहीं था। स्वतंत्रता के बाद संविधान सभा द्वारा कठिन परिश्रम से भारत के लिए व्यवस्थित संविधान का निर्माण हुआ जो अत्यधिक लचीला, स्पष्ट एवं व्यवस्थित तथा विश्व का सबसे बड़ा संविधान है।

वर्ष 2015 में भारत सरकार ने 26 नवम्बर को संविधान दिवस के रुप मनाने का फैसला लिया गया था तब से प्रत्येक वर्ष 26 नवम्बर को संविधान दिवस के रूप में मनाया जाता है।

इस अवसर पर नगर मजिस्ट्रेट रेनू सिंह, अपर जिलाधिकारी प्रशासन दिनेश कुमार, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व संतोष बहादुर सहित समस्त कलेक्ट्रेट के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।