संतान की लंबी आयु और सुख-समृद्धि की कामना के साथ माताओं ने रखा हलषष्ठी का व्रत

बहरिया / प्रयागराज। विकास खंड बहरिया अन्तर्गत लोकापुर गांव सहित विभिन्न गांवों में मंगलवार को संतान की लंबी आयु और सुख-समृद्धि की कामना के साथ मांओं ने हलछठ का व्रत रखा। इसे हरछठ या खमरछठ के नाम से भी जाना जाता है। लोकापुर गांव में महिलाओं ने सुबह स्नान कर व्रत का संकल्प लिया। इसके बाद कई माताओं ने घर, तो कुछ ने बाहर दीवार पर भैंस के गोबर से छठ माता का चित्र बनाया। उन्होंने भगवान गणेश और मां पार्वती की पूजा-अर्चना की।

पौराणिक मान्यता है कि इस दिन भगवान श्रीकृष्ण के बड़े भाई बलराम का जन्म हुआ था. मान्यता ये भी है कि इस व्रत को विधि-विधान से करने पर संतान से जुड़ी समस्याएं दूर हो जाती हैं. लोकापुर में कई महिलाओं ने घर में ही गोबर से प्रतीक के रूप में तालाब बनाया और एक साथ हलषष्ठी व्रत की कथा सुनी। आपको बता दें कि भाद्र कृष्ण पक्ष की षष्ठी पर हलषष्ठी माता की पूजा की जाती है। यूपी में इस पूजा को लेकर कई मान्यता प्रचलित हैं। इस व्रत में दूध, घी, सूखे मेवे, लाल चावल का सेवन किया जाता है, लेकिन इस दिन गाय के दूध और दही का सेवन नहीं करना चाहिए। इसलिए अधिकतर महिलाएं भैंस के दूध का प्रयोग करती हैं।

हलषष्ठी की पूजा में बिना हल चली जमीन पर उपजे पसहर चावल, लाई, महुआ, चुकिया का उपयोग किया गया। पूजा के बाद दीर्घायु और सुखी भविष्य के लिए माताओं ने संतान के माथे पर तिलक लगाकर उनकी पीठ पर पोता लगाया और उन्हें दूध-दही मिश्रित पसहर चावल का प्रसाद खिलाया। बलराम जी का मुख्य शस्त्र हल और मूसल है, इसलिए उन्हें हलधर भी कहा जाता है। उन्हीं के नाम पर इस पावन पर्व का नाम हल षष्ठी पड़ा है। नवविवाहित स्त्रियां भी संतान की प्राप्ति के लिए इस व्रत को करती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।