शिव मय हुआ नेशनल हाईवे 58: देश भक्ति से ओतप्रोत विभिन्न प्रकार की कावड़ लेकर आ रहे हैं शिव भक्त कावड़िए

मुज़फ्फरनगर- उत्तर प्रदेश के जनपद मुजफ्फरनगर में स्थित नेशनल हाईवे 58 इस वक्त शिव में होता हुआ नजर आ रहा है, आलम यह है कि पूरे नेशनल हाईवे 58 पर शिवभक्त कांवड़ियों का रेला दूर तक दिखाई दे रहा है ।

हरिद्वार से पवित्र गंगाजल लेकर आने वाले शिवभक्त कांवड़िये इस बार कुछ कम फोम में नजर नहीं आ रहे हैं इन दिनों शिवभक्त कावड़िए देशभक्ति से ओतप्रोत कांवड़ के साथ ही मनोकामना पूर्ण होने के पश्चात मन्नत मांगी हुई कावड़ को भी लेकर आ रहे हैं।

बात अगर जिला पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों की करें तो यहां जिला पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी शहर क्षेत्रों सहित नेशनल हाईवे 58 पर भी पूरी तरह शिवभक्त कांवड़ियों की सुरक्षा एवं सेवा भाव में जुटे हुए हैं।

तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि किस तरह शिव भक्त कावड़िए जहां एक तरफ अपनी मन्नतें पूरी होने के बाद भारी भरकम जल एवं कावड़ लेकर अपने गंतव्य की ओर रवाना हो रहे हैं।

ऐसी ही एक मनोहारी कावड़ से आपको हम रूबरू कराते हैं जिसमें दिल्ली स्थित इंडिया गेट रूपी एक कावड़ (इंडिया गेट बना हुआ) लेकर एक शिव भक्त कावड़िया मुजफ्फरनगर के नेशनल हाईवे 58 से गुजर रहा है।

यहां jk24x7news की टीम और कैमरे से मुखातिब इस शिव भक्त कांवड़िये ने कांवर्ड के महत्व और कितनी बार कांवर्ड ला चूका है के बारे में विस्तार से बताया है साथ ही साथ अपने धर्म के प्रति किस तरह सजगता बनाये रखनी है इस बारे में भी जानकारी दी है ।

तो वहीं दूसरी तरफ नेशनल हाईवे 58 पर ही शिवभक्त कावड़ियों की सेवार्थ स्थानीय ए टू जेड ऑटोव्हील्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की तरफ से भी शिवभक्त कावड़ियों की सेवार्थ में कोल्ड ड्रिंक्स, फल ,बिस्किट ठंडे पानी आदि का वितरण किया गया।
यहां सेल्स मैनेजर रामबीर त्यागी ने जानकारी देते हुए बताया कि 2 साल के कोरोना काल के बाद अब फिर से कावड़ यात्रा देखने को मिल रही है जिसमें हम लोग भी शिव भक्त कावड़ियों की सेवा में जी-जान से जुटे हैं।

उन्होंने कहा कि जो लोग किस कारण से कावड़ नहीं ला पाते या किसी कारण से वह यह यात्रा नहीं कर सकते तो हम उन लोगों को भी कहना चाहेंगे कि वह भी यहां शिवभक्त कांवरियों की सेवा कर इसी तरह धर्म लाभ उठा सकते।
रिपोर्ट भगत सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।