राष्ट्रीय लोक अदालत मे करीब 8 करोड़ रुपए की वसूली हुई, 2 लाख 79 हजार वाद किए निरस्त

बरेली। शनिवार को जिला न्यायालय सभागार मे राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया। जिला न्यायाधीश विनोद कुमार अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, अपर जनपद न्यायाधीश अरविन्द कुमार यादव नोडल अधिकारी लोक अदालत एवं लीड बैंक मैनेजर वीके. अरोड़ा ने शुभारंभ किया। इस दौरान अन्य न्यायिक अधिकारी भी मौजूद रहे। राष्ट्रीय लोक अदालत में न्यायिक अधिकारियों, विभिन्न बैंकों, बीमा कंपनियों के अधिकारियों, अधिवक्ताओं एवं पदाधिकारियों ने प्रतिभाग किया एवं लंबित वादों का निस्तारण कराया। अपर जिला जज सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सत्य प्रकाश आर्य ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से कुल 2,79,358 वादों का सफल निस्तारण किया गया। राष्ट्रीय लोक अदालत के माध्यम से जनपद न्यायालय द्वारा 6862 वादों का निस्तारण किया गया। प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा राष्ट्रीय लोक अदालत में 43,448 वादों, परिवहन विभाग द्वारा 1206 मामलों का, मोटर दावा दुर्घटना अधिकरण द्वारा 251 वादो का निस्तारण कर 115141640 रुपये की समझौता धनराशि, वाणिज्यिक न्यायालय द्वारा 17 वादों का निस्तारण 1 करोड़ 16 लाख से अधिक रुपये की समझौता धनराशि एवं स्थाई लोक अदालत द्वारा 4 वादों का सफल निस्तारण कर 11 लाख रुपये की समझौता धनराशि का आदेश पारित किया गया। सत्र न्यायालयों के 388 वाद, सिविल प्रकृति के 2127 वाद, पारिवारिक मामलों के 103 वाद, फौजदारी के 4347 वादों का निस्तारण आपसी सुलह समझौते व अभिस्वीकृति के आधार पर किया गया। 9797 ई चालानों का निस्तारण किया गया। अन्य विभागों द्वारा 226486 वादों का भी निस्तारण किया गया। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अपर जिला जज ने बताया कि लोक अदालत के आयोजन में जनपद न्यायालय परिसर मे दो जगह बैंकों के कैम्प लगाए गए। लोक अदलात में अलग अलग बैंकों ने बैंक ऋण से संबंधित 981 वादों का निस्तारण किया एवं कुल ऋण धनराशि 7 करोड़, 97 लाख 80 हजार 871 रुपये वसूल की गई। लोक अदालत में केन्द्रीय कारागार 2 मे हस्तशिल्पित वस्तुओं की भी प्रदर्शनी लगाई गई।।

बरेली से कपिल यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।