युवक ने मौत से पहले बनाई वीडियो फिर दे दी जान, कहा- सुसाइड नोट मे लिखे नाम बालो को हो सजा

बरेली। शहर के थाना सुभाषनगर क्षेत्र मे कत्था फैक्टरी के कर्मचारी विनयदीप उर्फ अंशू की आत्महत्या के मामले मे वीडियो सामने आया है। अंशू ने यह वीडियो आत्महत्या करने से पहले बनाया था। जिसमे उसने सुसाइड नोट दिखाते हुए पत्नी और ससुराल वालों को अपनी मौत का जिम्मेदार ठहराया। हैरानी की बात यह कि विवेचक ने एक महीने तक मोबाइल अपने कब्जे मे रखा। इसके बाद भी उन्हें वीडियो नही मिली। मोबाइल सुपुर्दगी मे परिजनों के पास आया। तब इस बात का पता चला। विवेचक ने एक माह मे किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नही की। यहां नही पीड़ित पक्ष का कॉल उठाना भी बंद कर दिया। मृतक के भाई ने वीडियो के साथ मामले की शिकायत बुधवार को एडीजी पीसी मीना से की। एडीजी ने जल्द आरोपियों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया है। आपको बता दे कि बीडीए कॉलोनी करगैना निवासी विशाल ने बताया कि उसके भाई विनयदीप का पत्नी लक्ष्मी से विवाद चल रहा था। लक्ष्मी पिछले नौ महीने से बेटे के साथ अपने मायके करमपुर चौधरी मे थी। विनय जब पत्नी को बुलाने ससुराल गया तो ससुरालियों ने उसे जमकर पीट दिया। इस बात से भी वह आहत था। विनयदीप 19 जनवरी की रात खाना खाने के बाद अपने कमरे मे सोने चला गया। रात मे व्हाट्सएप कॉल पर पत्नी से झगड़ा होने के बाद विनय ने फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस को उसकी जेब से मोबाइल और सुसाइड नोट मिला। सुसाइड नोट मे विनय ने पत्नी लक्ष्मी, सास सोमवती, साला सचिन, लतादेवी पत्नी सचिन और ससुर दानवीर को मौत का जिम्मेदार ठहराया। पुलिस ने एफआईआर तो दर्ज कर ली लेकिन अब तक किसी को गिरफ्तार नही किया। एक महीने बाद पुलिस ने विनयदीप का मोबाइल फोन परिजनों के सुपुर्द किया। फोन मे उसका उसका वीडियो मिला जो आत्महत्या से पहले का बताया गया। वीडियो मे विनयदीप कह रहा है कि मेरे घरवालों पर कोई आरोप न लगाए। वह बहुत बढ़िया है। मुझे चार पांच महीने से खिला रहे है लेकिन मेरी बीवी ने मुझे एक दिन भी आकर नही देखा। सुसाइड नोट दिखाते हुए कहता है कि जिन जिन के नाम इसमें लिखे है उनको सजा होनी चाहिए। आखिर में वह कहता है कि मेरे लड़के को उसकी दादी के पास छोड़ दिया जाए।।

बरेली से कपिल यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।