महंत कमल नयन दास की षड़यंत्र रचकर हुई हत्या, कोर्ट ने मुकदमा दर्ज कर जांच के आदेश

बरेली। महंत कमल नयन दास की षड़यंत्र रचकर हत्या करने का आरोप लगाते हुए दिनेश्वर दास चेला की ओर से दाखिल की गयी अर्जी को सीजेएम कोर्ट ने मंजूर कर लिया है। कोर्ट ने थानाध्यक्ष किला को अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। वादी के अधिवक्ता लवलेश पाठक ने बताया कि किला तुलसी मठ, निवासी दिनेश्वर दास चेला ने कोर्ट मे अर्जी देकर बताया था कि मठ में 40 साल से दादा गुरु केशव दास एवं गुरु महंत कमल नयन दास की सेवा कर रहा था। दादा गुरु महंत केशवदास के देहावसान के बाद महन्त कमल नयन दास को मठ का उत्तराधिकारी मानते मनोनयन हुआ था। महंत कमल नयन दास के प्रमुख चेला के रूप में वह कार्य कर रहा था। उन्होंने अपने जीवनकाल में दिनेश्वर दास के उत्तराधिकारी होने की घोषणा कर दी थी। कोर्ट मे दी अर्जी मे नीरज मिश्रा, अम्बा दत्त पचैरी, विष्णु दत्त पचैरी, कमला पाण्डेय, महेश चन्द्र पाण्डेय, पंकज पाण्डेय, पूनम पन्त, सुमन, जितेन्द्र कुमार पाण्डेय, शिव अवतार मिश्रा, ब्रहम स्वरूप, मुनीश, कृष्ण मुरारी पाठक, जम्मू कश्मीर में तैनात भारतीय सेना मे धर्मगुरू दुर्गेन्द्र चतुर्वेदी, अनुपमा मिश्रा, ज्वाला प्रसाद मिश्रा आदि पर आपराधिक षडयंत्र करने का आरोप लगाया है। महन्त कमल नयन दास की बहन कमला पांडेय व आरोपियों ने मठ की जमीन व अन्य स्रोतों से होने वाली आय के तीन करोड़ रुपये गबन करने का भी आरोप है। जिसका महंत कमल नयन दास ने विरोध किया था। इसी वजह से आरोपी उनकी हत्या का षडयंत्र रचने लगे। षड्यंत्र के तहत इलाज के नाम पर महन्त को ऐसी दवाइयां दी। जिससे वह रोगग्रस्त हो गये। 25 मई 2022 की रात मे आरोपियों ने महन्त को जहर दे दिया। स्थिति खराब होने पर महन्त ने चेला को बुलाकर कहा कि मुझे दवा के नाम पर शिव अवतार मिश्रा, दुर्गेन्द्र चतुर्वेदी, कृष्ण मुरारी पाठक, नीरज मिश्रा ने अपने साथियों के साथ मिलकर जहर दे दिया है। मुझे बचा लो। जब चेला इलाज के लिए अस्पताल ले जाने लगा तो इन लोगों ने रोक लिया। मारा पीटा और धमकी दी कि अगर महन्त को अस्पताल ले गये तो तुम्हारी हत्या कर देंगे और कमरे में बन्द कर दिया। 26 मई 2022 की शाम 5 बजे महन्त की मृत्यु हो गयी। शव को फ्रीजर में रखकर फूलों से ढक दिया, ताकि उनके शरीर पर जहर के लक्षण दिखाई न दे। हथियारों के बल पर धमकाया कि अगर कही शिकायत की तो जान से मार देंगे। इस वजह से शव का पोस्टमार्टम नही हुआ। महन्त का शव जमीन मे दफन कर दिया गया। सभी आरोपी मठ की सम्पत्ति को खुर्द-बुर्द कर रहे है। पुलिस जांच के नाम पर टहलाती रही तब न्याय के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाया।।

बरेली से कपिल यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।