बेसिक स्कूलों के छात्रों ने दरी पर बैठकर दी परीक्षा, 60 प्रतिशत बच्चों ने दी परीक्षा

बरेली। बुधवार से बेसिक स्कूलों में वार्षिक परीक्षा शुरू हुई तो कई केंद्रों पर फर्नीचर न होने से बच्चों ने दरी पर बैठकर परीक्षा दी। इसके अलावा जिन विद्यालयों में सिर्फ एक शिक्षक थे, वहां प्रश्नपत्र लेने के चक्कर में देरी से परीक्षा शुरू हो सकी। बेसिक शिक्षा विभाग के अधीन संचालित 2482 विद्यालयों में वार्षिक परीक्षा के पहले दिन सातवी कक्षा के गणित के प्रश्न पत्र मे एक सवाल मिस प्रिंट होने से परीक्षार्थी परेशान हुए। जिले में तीन लाख से अधिक अध्ययनरत विद्यार्थियों में से सिर्फ 60 प्रतिशत ही उपस्थित रहे। इनमें 60 प्रतिशत से अधिक परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी और चालीस प्रतशित अनुपस्थित रहे। मझगवां ब्लाक के कुछ विद्यालयों मे प्रश्न पत्र वितरण में देरी हुई। यहां कक्षा दो का पेपर गुम हो गया, जिससे शिक्षकों के हाथ पैर फूल गए, हालांकि कुछ देर बाद बंडल में पेपर मिल गया। कई स्कूलों में कक्ष निरीक्षकों की कमी महसूस की गई। एक कक्ष निरीक्षक को कई कक्षाओं की परीक्षा दिलानी पड़ी। देर शाम तक तमाम संकलन केंद्रों पर उत्तर पुस्तिकाओं के बंडल जमा होते रहे। पहली पाली मे सातवीं कक्षा के गणित के पेपर में प्रश्न संख्या दो के ग प्रश्न की मिस प्रिंटिंग होने से परीक्षार्थियों को परेशानी हुई। इस पर शिक्षकों ने प्रश्न छोड़कर दूसरा प्रश्न हल करने की सलाह दी। कई स्कूलों में परीक्षार्थियों की संख्या से कम पेपर मिले, जिस पर आनन-फानन में संकुल प्रभारी ने पेपरों की व्यवस्था कराई। वहीं फर्नीचर नहीं होने से परीक्षार्थियों को दरी बिछाकर परीक्षाएं संचालित की गईं। बेसिक शिक्षा अधिकारी संजय सिंह ने बताया कि जिले में परीक्षाएं सकुशल संचालित की गईं। कॉपी पर लिखने की कोई जानकारी नहीं है। ग्रामीण क्षेत्रों मे बजट नहीं मिलने पर उत्तर पुस्तिकाएं नही उपलब्ध हो सकी। इसकी वजह से बच्चों ने स्वयं की कॉपियों पर परीक्षा दी। कुछ विद्यालयों में शिक्षकों ने अपने निजी वहन से उत्तर पुस्तिकाओं का वितरण कराया। दूसरी पाली में कक्षा तीन से आठ तक कला की परीक्षा में बच्चों को प्रश्न पत्र ही वितरित नहीं किया गया। इसके विकल्प के रूप में शिक्षकों की ओर से बोर्ड पर एक पेंसिल स्कैच और एक कलर पेंटिंग बनाकर परीक्षाएं संचालित की गई।।

बरेली से कपिल यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।