बिल्डर के ठिकानों पर चली आईटी की कार्रवाई, सीएम कार्यालय ने लिया संज्ञान, जांच के घेरे मे आईएएस

बरेली। बिल्डर रमेश गंगवार व उनके करीबियों पर चल रही आयकर की कार्रवाई तीसरे दिन पूरी हो गई। इसके बावजूद कोई अधिकारी बोलने को तैयार नही है। अफसरों ने अपनी रिपोर्ट लखनऊ मुख्यालय को सौंप दी है। शहर के कुछ अन्य बिल्डरों के भी लिंक मिले है। जिन्हें विभाग ने निशाने पर लिया है। सोमवार को इस मामले मे इनकम टैक्स के आफिसर बड़ी घोषणा कर सकते हैं। वहीं मुख्यमंत्री कार्यालय ने इस पूरे मामले का संज्ञान लिया है। इनकम टैक्स रेड के साथ ठेकेदारों से लेकर बिल्डरों के बारे में जानकारी तलब की गई है। आयकर विभाग की लखनऊ की टीम ने बुधवार को सत्य सांई फर्म के मालिक बिल्डर रमेश गंगवार के प्रतिष्ठानों पर छापा मारा था। शुक्रवार को आयकर के अधिकारियों ने बिल्डर रमेश से दोपहर 12 बजे से कई घंटे पूछताछ की। सूत्र बताते है कि रमेश के घर से आयकर ने पांच डायरियां बरामद की है जिसमें लेनदेन से संबंधित अहम सबूत हाथ लगे है, जिसके आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। सूत्र बताते है कि आयकर विभाग की ओर से रमेश गंगवार के घर जांच पूरी होने के बाद रमेश व उनकी पत्नी की रिपोर्ट बनाकर लखनऊ भेज दी है। शहर मे तीन दिन से हो रही आयकर की छापेमारी के बाद रमेश से जुड़े कई ठेकेदारों के फोन बंद है। उन्हें अपने ऊपर भी कार्रवाई का डर सता रहा है। वहीं कुछ ठेकेदारों ने अपने ठिकाने बदल दिए है। इसकी पूरी रिपोर्ट शनिवार को इनकम टैक्स की टीमों ने अपने मुख्यालय को दी है। मुख्यालय से बरेली रेड की रिपोर्ट तैयार हो रही है। सोमवार को इनकम टैक्स आफिसर बरेली रेड के संबंध में खुलासा कर जानकारी दे सकते है। अब मददगार आईएएस लाबी भी बात करने से बच रही है। एक नेताजी ने तो यहां तक कह दिया कि इनकम टैक्स की रेड में हम क्या कर सकते हैं। आचार संहिता के दौरान इनकम टैक्स की रेड पड़ना मामूली बात नहीं है। दिल्ली के इशारे पर ही इनकम टैक्स की रेड पड़ी है। यह जानकारी मिलने के बाद तो आईएएस अफसरों के भी गले सूखने लगे हैं और ठेकेदार व प्रापर्टी डीलर का तो बुरा हाल है। सत्य सांई बिल्डर रमेश गंगवार ने बताया कि आयकर विभाग की टीम को जांच में पूरा सहयोग किया गया। उन्होंने जो भी दस्तावेज मांगे, उपलब्ध कराए गए। बावजूद इसके कोई टैक्स बनता है तो उसे जमा कराया जाएगा।।

बरेली से कपिल यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।