बरेली क्लब मे 523 जोड़ों ने थामा एक-दूसरे का हाथ, जनप्रतिनिधियों और अफसरों ने दिया आशीर्वाद

बरेली। शनिवार को मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत बरेली क्लब में आयोजित समारोह में 523 जोड़ों की शादी कराई गई। इसमें 417 जोड़ों ने सात फेरे लिए जबकि 106 मुस्लिम जोड़ों का मौलवियों ने निकाह कराया। पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सांसद संतोष गंगवार, मंडलायुक्त सौम्या अग्रवाल, डीएम रविंद्र कुमार, एसएसपी घुले सुशील चंद्रभान आदि ने नव दंपतियों को आशीर्वाद दिया। समाज कल्याण विभाग की ओर से आयोजित समारोह मे अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार की वेदपाठी से जुड़ी महिलाओं ने फेरे कराए। सांसद ने कहा कि योजना के तहत गरीब कन्याओं को विवाह कराया जा रहा है जो सराहनीय कार्य है। डीएम ने बताया कि योजना के तहत शासन से पात्र को 51 हजार रुपये का लाभ दिया जाता है। इसमें कन्या को अनुदान के रूप मे 35 हजार रुपये दिए जाते है। इसके साथ 10 हजार रुपये का सामान दिया जाता है। छह हजार रुपये पंडाल साज-सज्जा व खानपान पर व्यय होता है। रविवार को बाकी जोड़ों के लिए विवाह समारोह आयोजित किया जाएगा। सामूहिक विवाह समारोह में खानपान की व्यवस्था मे सीडीओ जग प्रवेश सजग रहे। पंडाल में खुद मौके पर जाकर कैटरिंग आदि की व्यवस्थाएं देखी। भोजन की गुणवत्ता के लिए सब्जी का स्वाद चखा। अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों को पंडाल में वही भोजन दिया गया जो सभी के लिए बना था। भुता ब्लॉक से सबसे अधिक 169, नगर निगम से 14, नगर पंचायत रिठौरा, धौराटांडा और मीरगंज से तीन-तीन, भोजीपुरा से 60, बिथरी चैनपुर से 29, क्यारा से 28, फतेहगंज पश्चिमी से 54, मीरगंज से 61, फरीदपुर ब्लाक से 80, नगर पालिका से चार, शाही और फतेहगंज पश्चिमी से दो-दो , शीशगढ़ से छह, फतेहगंज पूर्वी के पांच जोड़े विवाह बंधन में बंधे। इस मौके पर जिला पंचायत अध्यक्ष रश्मि पटेल, एमएलसी कुंवर महाराज सिंह, विधायक संजीव अग्रवाल, डॉ. डीसी वर्मा, डाॅ. राघवेंद्र शर्मा, परियोजना निदेशक तेजवंत सिंह, जिला समाज कल्याण अधिकारी मीनाक्षी वर्मा, डीपीआरओ धर्मेंद्र कुमार, सहायक निदेशक मत्स्य विभा लोहनी, डीसी एनआरएलएम बलवंत सिंह, पीडब्ल्यूडी एक्सईएन नारायण सिंह आदि मौजूद रहे।।

बरेली से कपिल यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।