बदायूं मे महिला जज ज्योत्सना राय का शव फंदे से लटका मिला, हर कोई स्तब्ध

बदायूं। जनपद बदायूं मे शनिवार सुबह सिविल बार के नजदीक सरकारी आवास में सिविल जज जूनियर डिवीजन ज्योत्सना राय (29) का शव फंदे से लटका मिला। कर्मचारी सुबह काम करने आवास पर पहुंचे। उन्होंने दरवाजा खटखटाया। उन्हें कई बार कॉल भी की लेकिन कोई जवाब नही आया।कर्मचारियों ने इसकी सूचना पर आसपास रह रहे जज और कोतवाली पुलिस को दी। पुलिस ने उनके आवास का दरवाजा तोड़ा और उनके परिवार वालों को सूचना दी। शाम करीब साढ़े पांच बजे उनके माता-पिता मौके पर पहुंचे। पुलिस के अनुसार उनके कमरे से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ है। सिविल जज, जूनियर डिवीजन ज्योत्सना राय 29 अप्रैल 2023 को अयोध्या से ट्रांसफर होकर बदायूं आई थी। वह महज 24 साल की उम्र मे सिविल जज बनी थी और उनकी पहली पोस्टिंग 15 नवंबर 2019 को अयोध्या में हुई थी। ज्योत्सना राय मूलरूप से मऊ जिले की रहने वाली थी। उनके पिता अशोक कुमार राय 31 जुलाई 2023 को अपर निदेशक अभियोजन के पद से बरेली से सेवानिवृत्त हुए थे। तब से वह लखनऊ मे रह रहे है। ज्योत्सना सिविल बार परिसर के नजदीक बने न्यायाधीश आवास नंबर चार में पहली मंजिल पर रह रही थीं। शनिवार सुबह करीब साढ़े नौ बजे कर्मचारी भूपराम उनके आवास पर पहुंचा था। वह दरवाजा खुलवाने की कोशिश कर रहा था। तभी खाना बनाने वाली सुशीला और सफाई करने वाली ममता उनके आवास पर पहुंच गई। वह लोग दरवाजा खुलवाने की काफी कोशिश करते रहे। दरवाजा अंदर से बंद था। उन्होंने कई बार दरवाजा खटखटाया और उनके मोबाइल नंबर पर कॉल भी की। इसी दौरान कर्मचारी अनीता भी उनके आवास पर पहुंची। कोई आहट न होने पर उन्होंने नजदीक में रह रहे दूसरे जजों को सूचना दी। इसके बाद सुरक्षा में लगे गार्डों को बुलाया गया। सूचना पर कोतवाली पुलिस भी पहुंच गई और बाहर से दरवाजा तोड़ा गया। जहां एक कमरे में उनका शव पंखे पर रस्सी के फंदे से लटका मिला। पुलिस का कहना है कि उनके आवास से एक सुसाइड नोट मिला है। इससे हालात आत्महत्या की ओर इशारा कर रहे हैं। इसकी सूचना पर जिला जज पंकज अग्रवाल, डीएम मनोज कुमार, एसएसपी आलोक प्रियदर्शी समेत कई अधिकारी और जज पहुंच गए। शाम करीब साढ़े पांच बजे ज्योत्सना के पिता अशोक कुमार राय अपनी पत्नी के साथ आवास पहुंचे। देर शाम तक उनके भाई और परिवार के अन्य लोगों का इंतजार होता रहा लेकिन तब तक महिला जज का शव पोस्टमार्टम के लिए नही भेजा।।

बरेली से कपिल यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।