फिर बदलेगा मौसम का मिजाज, बारिशों के साथ होगा मार्च महीने का आगाज

पश्चिम विक्षोभ की सक्रियता चलते सहारनपुर समेत उत्तर भारत में जमकर बरसेंगे बदरा

तेज हवाओं के बीच पहाड़ों पर बर्फबारी,मैदानी क्षेत्रों में बारिश और ओलावृष्टि की संभावना

सहारनपुर- सहारनपुर समेत उत्तर भारत में फरवरी के आखरी सप्ताह में भी सर्दी का मौसम बना हुआ है इन सभी उतार चढ़ाव के बीच एक बार फिर से बारासतो का दौर देखने को मिलेगा। बरसातो के इस दौर से जहा अधिकतम और न्यूनतम तापमान में 2 से 3 डिग्री सेल्सियस की कमी दर्ज की जाएगी। वही तापमानों में गिरावट के कारण एक बार फिर से उत्तर भारत के लोगो को ठंड का एहसास होगा।

मौसम विभाग के पूर्वानुमान की माने तो मार्च के महीने की शुरुआत उत्तर भारत में बर्फबारी और बारिशों के दौर के साथ शुरू होगी। रिपोर्ट के मुताबिक इस सीजन का ये सबसे सशक्त सक्रिय पश्चिम विक्षोभ होगा जिसका असर पहाड़ों से लेकर मैदानी इलाकों तक देखा जाएगा।

स्काई मेट वेदर के मुताबिक सहारनपुर सहित दिल्ली, एनसीआर और उतर पश्चिमी राज्यो में 1 और 2 मार्च के बीच बारिश होने के आसार हैं. इन दो दिनों के दौरान अरब सागर से उत्तर पश्चिम भारत में उच्च नमी आने की संभावना है।

दरअसल 29 फरवरी से 3 मार्च तक पश्चिमी हिमालय को प्रभावित करने वाले एक सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ के कारण उत्तर भारत के मौसम में बदलाव देखा जाएगा.जिसके कारण दिल्ली-एनसीआर में बारिश और तूफान की दस्तक हो सकती है.वही पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश उत्तर प्रदेश आदि के अधिकतर हिस्सों में भी कई जगहों पर अच्छी बारिश हो सकती है. वहीं उत्तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा के कुछ इलाकों में ओलावृष्टि भी हो सकती है.

उत्तर प्रदेश के इन जिलों में बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया गया है

मौसम विभाग ने 1 मार्च से पश्चिमी यूपी के सहारनपुर, बिजनौर ,मुजफ्फरनगर,शामली ,बागपत ,मेरठ ,गाजियाबाद, हापुड़, मुरादाबाद, गौतम बुद्ध नगर ,बुलंदशहर, अलीगढ़, मथुरा ,हाथरस और आगरा में बारिश के आसार है.
वही मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक ललितपुर, जालौन ,महोबा, हमीरपुर, फतेहपुर, बांदा , चित्रकूट , कानपुर ,कौशांबी, प्रतापगढ़, जौनपुर ,प्रयागराज ,झांसी, मिर्जापुर, वाराणसी ,चंदौली ,सोनभद्र और गाजीपुर में बारिश का अनुमान जताया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।