प्रदेश अध्यक्ष सुदेश पाल ने दी किसानो क़ो इंसाफ न मिलने पर आंदोलन की चेतावनी

*डिप्टी कमिश्नर से मिला भारतीय किसान यूनियन तोमर का प्रतिनिधिमंडल

*देवबन्द एस.डी.एम. की लिखित वादा खिलाफी से डिप्टी कमिश्नर क़ो कराया अवगत

सहारनपुर – आज भारतीय किसान यूनियन तोमर का एक प्रतिनिधिमंडल प्रदेश अध्यक्ष चौधरी सुदेश पाल के नेतृत्व में किसानों की समस्याओं को लेकर कमिश्नर सहारनपुर से मिलने पहुंचा।

मौके पर उपस्थित डिप्टी कमिश्नर ने भारतीय किसान यूनियन तोमर के प्रतिनिधिमंडल से वार्ता कर एसडीएम को फोन पर तुरंत रास्ते से संबंधित समस्या क़ो लेकर आदेशित करते हुवे भाकियू तोमर के प्रतिनिधिमंडल से हर समस्या का समाधान कराने का आश्वासन दिया।

भाकियू तोमर के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी सुदेश पाल ने कहा कि महीनों तक धरना चलने के बाद एसडीएम देवबंद ने बेतोर लिखित रूप मे धरने को समाप्त करने के लिए आश्वासन दिया था कि नागल फाटक स्तिथ रोड का स्थान छोड़ते हुए रोड का निर्माण कराया जाएगा, जमीनों का मुआवजा मिलेगा परंतु अब बिना मुआवजा दिए बलपूर्वक रेलवे निर्माण कराना चाहता है।
जिससे टकराव की स्थिति पैदा हो रही है सुदेश पाल ने आगे कहा कि धरना तब तक समाप्त नहीं होगा जब तक के रोड का कार्य शुरू नहीं होगा।

जिला अध्यक्ष अभिषेक कांबोज ने कहा कि अगर किसानों को इंसाफ ना मिला तो भाकियू तोमर महापंचायत कर आंदोलन करने पर बाध्य होगा जिसका जिम्मेदार प्रशासन खुद होगा।

प्रदेश महासचिव आरिफ मलिक ने कहा कि किसान अब फटे कुर्ते पजामे वाला नहीं रहा है वह मजबूत भी हो चुका है और शिक्षित भी अगर किसानों का शोषण बंद नहीं होता है तो महाआंदोलन किया जाएगा।

मंडल अध्यक्ष बीरेंद्र सिंह ने कहा कि भारतीय किसान यूनियन तोमर को प्रशासन हल्के में लेने की भूल ना करें जितनी संख्या में पीएसी बल धरने पर पहुंचेगा हर रोज उससे अधिक किसान धरने पर पहुंचने का काम करेगा।

इस दौरान प्रतिनिधिमंडल में प्रदेश अध्यक्ष प्रतिनिधि चौधरी आशीष, प्रदेश महासचिव आरिफ मलिक, मंडल अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह, मंडल उपाध्यक्ष मास्टर सतपाल, महानगर अध्यक्ष उसमान मलिक, सुल्तान, सोनू, अभिमन्यु, वालिया, जितेंद्र सिंह, अनुराग सैनी, अंकित सैनी सावेज चौधरी आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।