नीरव मोदी के खिलाफ सीबीआई रेड कार्नर नोटिस जारी करने के लिए इंटरपोल से करेगी गुहार

दिल्ली- मोदी सरकार के कार्यकाल में देश के सबसे बडी बैंक धोखाधड़ी मामले में हीरा व्यापारी नीरव मोदी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने के बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने के लिए इंटरपोल से जल्द ही गुहार करेगी. आरोपपत्र में अरबपति ज्वैलर नीरव मोदी को 13,500 करोड़ रुपये से अधिक के घोटाले में फरार आरोपी और मुख्य साजिशकर्ता दिखाया गया है। एक अधिकारी की जानकारी अनुसार अगर आरोपी के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया गया हो तो उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस (आरसीएन) जारी किया जा सकता है। नीरव के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया जा चुका है और उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट भी जारी किया गया है, हम जल्द ही उनके खिलाफ आरसीएन जारी करने की प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं नीरव नोदी और मेहुल चोकसी के खिलाफ डिफ्यूजन नोटिस पहले ही जारी किया जा चुका है. प्रवर्तन निदेशालय के सूत्रों के अनुसार, नीरव मोदी सिंगापुर के द्वारा जारी किए गए अपने तीसरे पासपोर्ट पर यात्रा कर रहा है. सूत्रों के मुताबिक, मोदी हांगकांग में कुछ दिनों के लिए था और बाद में वह नजर में आने से बचने के लिए अपने सिंगापुर के पासपोर्ट का उपयोग कर रहा है।नीरव मोदी के पास पहले से ही भारतीय और बेल्जियम के पासपोर्ट हैं. हालांकि, यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि सिंगापुर ने पासपोर्ट कब जारी किया था. सीबीआई द्वारा एफआईआर दर्ज करने से दो सप्ताह पहले ही नीरव मोदी भारत से फरार हो गया था। रेड कॉर्नर नोटिस इंटरपोल के सदस्य देशों को अपने देशों में नीरव मोदी को ढूंढ़ने और गिरफ्तार करने का अधिकार प्रदान करेगा सीबीआई ने अपने आरोपपत्र में कहा है कि नीरव मोदी ने अपनी कंपनियों के माध्यम से मुंबई में पंजाब नेशनल बैंक की ब्रैडी हाउस शाखा से जारी 150 धोखाधड़ी वाले एलओयू का उपयोग करके 6,498.20 करोड़ रुपये का फ्रॉड किया.
-देवेन्द्र प्रताप सिंह कुशवाहा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।