नवरात्र में भक्तों को आशीर्वाद देने अश्व पर सवार होकर आयेंगी माता रानी और हाथी पर होगी विदाई

घट स्थापना का मुहूर्त
घट स्थापना का मुहूर्त सुबह 6:24 से 10:28 बजे तक रहेगा।इस दिन सुबह 7:32 बजे से पूरे दिन अमृत सिद्धि व सर्वार्थ सिद्धि योग भी रहेगा। अभिजीत मुहूर्त दोपहर 12:30 से 12:54 बजे तक रहेगा।

बरेली। नव संवत्सर और वासंतिक चैत्र नवरात्रि का शुभारंभ नौ अप्रैल को घटस्थापना के साथ होगा एवं 17 अप्रैल को राम नवमी पर माता रानी की विदाई यानी नवरात्रि का समापन होगा। जो कि शुभ माना गया है। यह अच्छी बारिश, खुशहाली एवं तरक्की का संकेत देता है। ज्योतिषाचार्य विपिन शर्मा के अनुसार इस बार चैत्र नवरात्रि में पूरे नौ दिनों का शक्ति पर्व मनाया जाएगा। यही नहीं इस साल चैत्र नवरात्रि के नौ दिन बेहद अद्भुत योग का संयोग बन रहा है जिससे भक्तों को माता रानी का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होगा।

चैत्र नवरात्रि में ग्रह-नक्षत्रों की शुभ स्थिति
चैत्र नवरात्रि के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि यानी घटस्थापना के दिन गुरु और चंद्रमा की मेष राशि में युति से गजकेसरी योग बन रहा है। वहीं मेष में सूर्य और बुध का संयोग बुधादित्य राजयोग बना रहा है। ज्योतिषाचार्य विपिन शर्मा के अनुसार शुक्र-बुध के साथ मीन राशि में होंगे जिससे लक्ष्मी नारायण योग बनेगा। साथ ही शुक्र के अपनी उच्च राशि मीन में होने से मालव्य राजयोग भी बन रहा है। इसके अलावा इस दिन अमृत सिद्धि और सर्वार्थ सिद्धि योग का संयोग भी बन रहा है। ऐसे में इतने सारे योग का एक दिन ही निर्माण होना बेहद शुभ माना जा रहा है।

देवी पूजन के साथ इन कामों के लिए शुभ है चैत्र नवरात्रि
ज्योतिषाचार्य विपिन शर्मा के अनुसार इन दिनों में सिर्फ पूजा-पाठ ही नहीं होती, नई शुरुआत और खरीदारी के लिए भी ये दिन बहुत शुभ होते हैं। इस बार नवरात्रि के शुरुआती पांच दिन यानी 9-13 अप्रैल खरमास रहेंगे, जिसमें शुभ काम नहीं होते न ही शुभ चीजों की खरीदारी की जाती है लेकिन 14 अप्रैल से नवरात्रि के समापन तक ऐसे मुहूर्त बन रहे हैं, जिसमें प्रॉपर्टी, ज्वैलरी, गाड़ियों से लेकर इलेक्ट्रॉनिक सामान तक खरीदना समृद्धिदायक होगा। साथ ही नए कामों की शुरुआत करना भी सफलतादायक रहेगा।

– बरेली से आशीष जौहरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।