डॉक्टर दपंती से दबंगों ने मांगी पांच करोड़ की रंगदारी, एसएसपी के आदेश पर मुकदमा

बरेली। जनपद के सिविल लाइंस मे करोड़ों की प्रापर्टी पर कब्जे के लिए पुरी पैथोलॉजी के डॉक्टर दपंती से दबंगों ने पांच करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी और न देने पर जान से मारने की धमकी दी। एसएसपी घुले सुशील चंद्रभान के आदेश पर कोतवाली पुलिस ने दस आरोपियों के खिलाफ जानलेवा हमला, बलवा, रंगदारी, मारपीट समेत अभद्रता करने के आरोप मे मुकदमा दर्ज कर लिया है। शहर के सिविल लाइंस निवासी डॉ. महिपाल सिंह पुरी के मुताबिक 28 सौ वर्ग गज जमीन पर उनका कब्जा है। जमीन की कीमत बढ़ने पर कवल नयन सिंह पुरी ने उनके खिलाफ कोर्ट में मुकदमा दायर किया। आठ जनवरी को कवल नयन सिंह पुरी के मुकदमों को कोर्ट ने खारिज कर दिया और जमीन पर मालिकाना हक उनका माना गया। 29 जनवरी को वह जमीन पर निर्माण करवा रहे थे। आरोप है कि कवल नयन सिंह पुरी ने तीन अज्ञात व्यक्तियों के साथ मौके पर पहुंच कर काम रुकवा दिया। उन्होंने डॉ. हरमीत पुरी का हाथ पकड़कर अभद्रता की। जब वह बचाने पहुंचे तो राजकरण पुरी ने उन्हे थप्पड़ मार दिया। आरोप है कि विरोध करने पर कांटेदार डंडे से हमला करते हुए धमकी दी कि जमीन चाहते हो तो पांच करोड़ रुपये दो नही तो निर्माण नही होने देंगे और पूरे परिवार को जान से मार देंगे। आरोपी उन्हें अमन पाल के इशारे पर धमका रहे हैं। डॉ. हरमीत पुरी ने बताया कि आरोपियों ने पुलिस को गुमराह कर महिपाल पुरी के खिलाफ पांच से ज्यादा झूठे मुकदमे दर्ज करवा दिए। डॉ. महिपाल ने 15 मई 2023 को घटना की शिकायत की और मेडिकल भी कराया गया लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नही की। छह फरवरी 2023 को डॉ. महिपाल अपनी पत्नी के साथ जमीन पर निर्माण करवाने गए तो हरविन्द्र पुरी जमीन के गेट के सामने लेट गई। बोली काम कराना है तो मेरे ऊपर बुल्डोजर चढ़ा दो। इसके बाद 12 फरवरी को डॉ. महिला के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज कराया गया। महिपाल सिंह की ओर से कोतवाली मे दिल्ली में ग्रेटर कैलाश की रहने वाली हरविंदर पुरी, पति कवल नयन सिंह पुरी, पुत्र राजकरन पुरी, कृतिका पाल, अमनपाल समेत पांच अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। मुकदमा दर्ज कर पुलिस जांच मे जुटी है।।

बरेली से कपिल यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।