झुमका तिराहे पर छह एकड़ मे बनेगा नया बस अड्डा, पीपीपी मॉडल पर झुमका तिराहे को चमकाएगा बीडीए

बरेली। शहर तेजी से बढ़ रहा है। साथ ही आबादी भी बढ़ रही है। गांव-देहात तक परिवहन सेवाएं मुहैया कराने के लिए झुमका तिराहे पर छह एकड़ मे नया बस अड्डा बनेगा। इसके लिए जमीन चिह्नित कर प्रस्ताव शासन को भेज दिया गया है। यहां से उत्तराखंड, पीलीभीत और लखनऊ सहित विभिन्न रूट की बसों का संचालन होगा। शहर के साथ 225 ग्रामीण रूटों पर भी ई-बसों और डबल डेकर बसों की सुविधा मिलेगी। वही शहर के बीचोंबीच स्थित सेटेलाइट और पुराने बस अड्डे पर बसों और यात्रियों का दबाव भी कम होगा। फिलहाल शहर मे 25 ई-बसें दौड़ रही है। 100 ई-बसें और मिलनी है। स्वालेनगर स्थित सिटी बस डिपो मे 7.30 करोड़ की लागत से 100 बसों के लिए चार्जिंग स्टेशन का निर्माण कराया जा रहा है। रोडवेज ने भी अब डीजल से चलने वाली बसों की खरीद पर रोक लगा दी है। निगम अब ई-बसों की खरीद करेगा। इसके साथ ही झुमका तिराहे को पीपीपी मॉडल पर खूबसूरत और चौड़ीकरण करने की कवायद तेज हो गई है। बरेली विकास प्राधिकरण ने इस प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू कर दिया है। नामी कंपनियों ने झुमका तिराहे को विकसित करने की कार्ययोजना और अपना प्लान प्राधिकरण को सौंपा है। जिस कंपनी का डिवाइजन और प्रोजेक्ट बेहतर होगा उसको सौन्दर्यीकरण की जिम्मेदारी सौंप दी जाएगी। 1966 में आई मूवी मेरा साया के गीत झुमका गिरा रे…… ने धमाल खूब मचाया। हाल में बनी फिल्म राकी और रानी की प्रेम कहानी के गीत वाट झुमका ने झुमके की याद तरोताजा की थी। फिल्म के मुख्य किरदार आलिया भट्ट और रणवीर सिंह इस गीत के बाद झुमका देखने बरेली झुमका तिराहे पर पहुंचे थे। झुमका तिराहे की बढ़ती लोकप्रियता ने लोगों को दीवाना बना रखा है। बरेली विकास प्राधिकरण इस तिराहे को ओर खूबसूरत बनाने मे जुट गया है। तिराहे का चौड़ीकरण के साथ विकसित करने की कार्ययोजना बनाई है। पीपीपी मॉडल पर इस प्रोजेक्ट पर काम किया जा रहा है। बीडीए सचिव योगेंद्र कुमार का कहना है कि झुमका तिराहे को डेवलप करने की योजना पर काम किया जा रहा है। कई कंपनियों ने अपने प्रस्ताव दिए हैं। इनका चयन कर झुमका तिराहे को विकसित किया जाएगा।।

बरेली से कपिल यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।