चौकी प्रभारी से विवाद करने पर भाजपा के पूर्व सांसद समेत पाँच लोगो पर मुकदमा दर्ज

मिर्जापुर-मामला मीरजापुर के थाना कोतवाली शहर क्षेत्र के फतहा चौकी का है।फतहां चौकी प्रभारी अश्विनी त्रिपाठी ने एक वांछित अपराधी को जब थाने ले आये तो सत्ता के नशे में चूर भाजपा के पूर्व सांसद राम सकल ने उस वांछित अपराधी की पैरवी करने थाने पहुचते ही सत्ता का धौस देते हुए थाने में हंगामा खड़ा कर दिया भाजपा नेता ने आंख के सामने आने वाले सभी वर्दीधारी को गलियां देना शुरू कर दिया साथ ही जिले के पुलिस विभाग के मुखिया की भी ऐसी की तैसी करने की बात कह डाली
उसके बाद मामले को गंभीरता से लेते हुए थाना प्रभारी भुवनेश्वर पांडेय ने विभिन्न धाराओं में पांच लोगो पर मुकदमा दर्ज कर लिया वही इस मामले में भुक्तभोगी दरोगा सत्ता के प्रकोप से बचने के लिए चुप्पी साधे हुए है।
उधर पूर्व सांसद को प्राथिमिकी दर्ज होने के बाद भी मामले से अनभिज्ञ है । भाजपा के पूर्व सांसद का कहना है की वह किसी चोर या डकैत की पैरवी करने शहर कोतवाली नही गए थे।बल्कि फतहाँ वार्ड के भाजपा के सक्रिय कार्यकर्ता शशिधर शाह जो नीलामी से जुड़े कार्य को करता है ।सरकारी गाड़ियों की नीलामी के संदर्भ में उनसे नाजिर को पैसा जमा कर रसीद भी ले रखा है ।इस नीलामी के विवाद में मनमानी तरीके से चौकी इंचार्ज उसे उठा ले गए और दुर्व्यवहार करने लगे।जिसकी जानकारी पार्टी सेक्टर अध्यक्ष मिलने पर वे कोतवाली गए थे ।जहां उन्होंने पूछा था कि किस अपराध में पार्टी के कार्यकर्ता का उत्पीड़न किया जा रहा है सरकार बदल गयी है फिर भी वर्दी वालो की मानसिकता नही बदली ।जिला अध्यक्ष बालेंदुमणि त्रिपाठी ने भी इसे एक पुलिसिया साजिस बताया जिसको अब एक राजनीतिक रंग लेने की ओर है ।इधर पूर्व सांसद सहित पांच लोगों के विरुद्ध दरोगा ने धारा 147,353,504,506, के तहत मामला दर्ज कराया गया है।
मिर्ज़ापुर से बृजेन्द्र दुबे की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।