ईद को लेकर बाजार हुआ गुलजार, खरीदारी के लिए उमड़े लोग

बरेली। ईद की तैयारी शुरू हो गई है। बाजार में खरीददारी के लिए लोगों की भीड़ उमड़ने लगी है। मांग के हिसाब से दुकानदारों ने भी माल मंगाना शुरू कर दिया है। रोजा इफ्तार के बाद महिलाएं और पुरुष खरीदारी के लिए बाजार में पहुंच रहे है। पिछली ईद के अपेक्षा इस वर्ष कपड़ा की कीमत मे इजाफा हुआ है। जीन्स, शर्ट, पैजामा, कुर्ता सहित अन्य सामानों की कीमत काफी बढ़ी हुई है। इस तपिश भरी गर्मी में भी रोजा रखकर महिलांए सामान की खरीदारी करने बाजार पहुंच रही है। बाजार करने आई गुड़िया, शगुफ्ता नाज, मुस्कान सहित अन्य महिलाओं का कहना है कि जिस लेडिज सूट की कीमत पिछले साल 500 रूपया थी वह इस वर्ष एक हजार रूपया मे मिल रहा है। दुकानदारों से कपड़े की कीमत में हुये इजाफा को लेकर पूछने पर बताया कि होलसेल रेट में ही कीमत अधिक बढ़ गई है, जिससे कपड़ा महंगा हो गया है। महिलाओं के साथ ही पुरुषों की भी भारी भीड़ बाजारों में खरीदारी को पहुंच रही है। इन दिनों जहां सिवई, खजला और फेनी की अधिक मांग है। वही कपड़ों व अन्य चीजों की भी खूब खरीदारी हो रही है। ईद पर अधिकतर लोग कुर्ता पहनना ज्यादा पंसद करते हैं। यही वजह है कि कुर्ते की दुकानें गुलजार हो रही हैं। इस्लामिया मार्केट में कुर्ते का कपड़ा खरीदने वालों की भीड़ नजर आती है। कपड़ा विक्रेता शरीफ अहमद ने बताया कि ईद करीब है और इस मौके पर लोग कुर्ते का कपड़ा खरीदना पसंद कर रहे हैं। प्लेन कलर, चिकन कढ़ाई ज्यादा पसंद किया जा रहा है। कुतुबखाना बड़ा बाजार मे यहां की हर दुकान इन दिनों गुलजार हो रही है। चटाई विक्रेता शाहिद खां नूरी ने बताया कि लोग घरों को सजाने के लिए देश-विदेश की बनी कालीन या नमाज के लिए जमकर खरीद रहे है। दुकानदारों का कहना है कि भले ही महंगाई बढ़ी है, लेकिन लोग जमकर खरीदारी कर रहे हैं। सैलानी, कुतुबखाना, बड़ा बाजार, कुमार टॉकीज, जिला अस्पताल मार्केट आदि स्थानों के बाजारों में काफी रौनक है। सैलानी के दुकानदार कासिफ खान ने बताया कि कुर्ता, नायरा कट, चिकनकारी सूट, कॉटन कुर्ती प्लाजो, जयपुरी सूट, अनारकली गाउन, अनारकली सूट, कॉटन लोन आदि परिधानों की मांग ज्यादा है। रेडीमेड कुर्ता-पायजामा की बिक्री खूब हो रही है।।

बरेली से कपिल यादव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।