इलाहाबाद में वकील की हत्या के बाद काशी में भी दिखा असर कायस्थ एकता समिति ने की निंदा

वाराणसी-इलाहाबाद में दिनदहाड़े अधिवक्ता के हत्या से आक्रोशित काशी के अनेको कायस्थ संस्थाओ ने किया प्रदर्शन।कायस्थ एकता समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष सोमा श्रीवास्तव ने कहा कि जब जज के घर के सामने बेखौफ अपराधियो ने अधिवक्ता राजेश श्रीवास्तव जी की सरेआम शासन प्रशासन सरकार को चुनौती देते हुए हत्या कर दी इस घटना से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि अपराधियों के हौसले कितने बुलंद हैं जिसकी कोई सीमा नहीं जो की यह दर्शाता है की अपराधियो के अंदर शासन प्रशासन सरकार कानून का कोई डर भय है ही नहीं।ऐसे में आम इंसान अपने बच्चों व परिवार को सुरक्षित महसूस नहीं कर पा रहे है अपराधियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही सुनिश्चित होनी चाहिए ताकि आने वाले समय में एक आम व्यक्ति अपने आप को सुरक्षित महसूस कर सके अब तो यह कहने में बिल्कुल भी हिचक नहीं है कि ना गुंडाराज ना भष्ट्राचार के नारे के दम पर उत्तर प्रदेश में पूर्ण बहुमत की चुनी गयी योगी सरकार नाकारा साबित हो रही है केवल मुह से फर्जी बयान एवं सरकार का बखान किया जा रहा है।जब कि जमीनी हकीकत सबके सामने है प्रश्न यह उठता है कि आज के इस अपराध भरे परिवेश में जब अधिवक्ता ही सुरक्षित नही हैं तो एक आम व्यक्ति और उसके परिवार कितना सुरक्षित होंगे हमारी मार्मिक सहानुभति मृतक के परिवार के साथ है।वही समिति के प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र श्रीवास्तव पीयूस ने कहा की भगवान मृतक अधिवक्ता राजेश श्रीवास्तव जी के आत्मा को शांति प्रदान करें हम काशी के कायस्थ भाइयो बहनो योगी सरकार और उनकी पुलिस से यह मांग करते है कि हत्यारे को फाँसी की सजा हो तथा मृतक अधिवक्ता के परिजनों को 50 लाख की आर्थिक मदद के साथ घर के किसी सदस्य को सरकारी नौकरी की मांग को लेकर 20 मई को इलाहाबाद में ब्यापक धरना प्रदर्शन कर विरोध जताया जायेगा।अगर जल्द से जल्द अपराधियो की गिरफ्तारी नहीं हुई तो कायस्थो के आक्रोश का खामियाजा उन्हें जरूर भुगतना होगा।उक्त प्रदर्शन में सचिव ज्ञानु श्रीवास्तव,पूर्वांचल मिडिया प्रभारी विकास श्रीवास्तव,शिवम श्रीवास्तव,उत्सव श्रीवास्तव,रंजीत,अभिषेक श्रीवास्तव,प्रदीप,आलोक,मनीष,ओमप्रकाश,दिलीप,जगदीश,सुरेश,ज्ञानेन्द्र आदि लोग उपस्थित रहे।

रिपोर्टर-:एस के श्रीवास्तव ,जंसा/ वाराणसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।