आजकल त्वरित समाधान और रोष प्रकट करने के लिए एकमात्र सहारा सिर्फ सोशल मीडिया ‌

बाड़मेर/राजस्थान- आजकल आमजन की मूलभूत समस्याओं का समाधान करने के लिए देश विदेश सहित केन्द्र और राज्य सरकार के उच्च अधिकारियों तक अपनी बात पहुंचाने ओर जिला मुख्यालय पर विराजमान सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा आम जनता की मूलभूत सुविधाओं के सम्बन्ध में समस्याओं का त्वरित समाधान नही होने पर सरकारों तक अपनी बात पहुंचाने के लिए हाईटेक प्रणाली के आधुनिक युग के साधनों से लैस आपके मोबाइल फोन पर अनेकों साइट्स पर सबसे ज्यादा सुलभ पहले ट्वीटर ओर आजकल एक्स बहुत ही ज्यादा कारगर साबित हुआ है। ट्विटर रूपी चिड़िया पर सैकड़ों बार एक सहयोगी मिशन के तहत बेरोजगार स्टुडेंट्स और अन्य पीड़ित व्यक्तियों के साथ अपनी बात सरकार तक पहुचाने के लिए सभी छोटे बड़े नेताओं और सरकारी सूचना प्रौद्योगिकी को भी पछाड़ कर रख दिया है l

पिछले काफी सालों से ट्रेंड टॉप कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए भैरा राम जाट सामान्य कद काठी और दुबला पतला सा एक साधारण परिवार का शिक्षित व्यक्ति होने के साथ ही स्कूल कालेज में पढाई लिखाई करने के दौरान ही तेज तर्रार नेताओं की तरह ओजस्वी भाषण देने के लिए जाना जाता था, और सोशलमीडिया पर स्पष्टता के कारण लोगों को एकजुट कर एक बेहतरीन कारवां चलता रहा और लाखों लोगों का साथ मिलता रहा l

भैरा राम ने बताया कि कभी कभार गाँव ग्वाड में पीड़ित व्यक्तियों की ज़िला स्तर के अधिकारियों द्वारा जिला और पुलिस प्रशासन द्वारा उचित कार्यवाही नहीं होती है तो फिर आइये हमारे ट्विटर रूपी चिड़िया पर मूलभूत समस्याओं का समाधान जैसे सड़को की दुर्दशा, सरकारी शिक्षा का मन्दिर आजकल पढाई लिखाई की जगह हास्टलो का असुरक्षित माहौल और ट्यूशन माफिया , गर्मी के मौसम में बिगड़े हुए बिजली व्यवस्था, लाखों करोड़ों रुपये खर्च करने के बावजूद भी लोगों को नहरों का मीठा पानी नहीं मिलता है तो करो झट से शिकायत, रेलगाड़ियों की कमी से सम्बंधित सभी शिकायतों के तुरंत राहत पाने के लिए उचित समाधान, किसी भी तरह से आपके जन-जीवन को प्रभावित करने वाले सभी मूलभूत समस्याओं का समाधान आजकल केवल ट्विटर पर लिखते ही तुरंत समस्याओं का समाधान मिल जाता है।अधिकारियों और सरकारी कर्मचारियों द्वारा भी ट्विटर पर लिखा गया है तो फिर तुरंत समाधान करने के दौरान वापस प्रत्युत्तर देने में कोई कोताही नहीं बरती जाती है अन्यथा कहीं सरकारी मशीनरी की लापरवाही का कोप न बन जाए।

पिछले साल आपतकालीन सेवाओं में आने वाली हमारी राजस्थान पुलिस का प्रोटेस्ट करने का अनोखा तरीका हाईटेक प्रणाली से लैस सोशल मीडिया की सुर्खियां बन गया था। ट्विटर पर टाॅप ट्रेंड में राजस्थान पुलिस की पगार का मुद्दा जोरदार चला जो पहले सातवें नंबर पर था और दिन की शुरुआत के साथ ही पहले पांच पर जा पहुंचा था। दरअसल राजस्थान के पुलिसकर्मियों की ओर से सरकार तक अपनी बात पहुंचाने के लिए हाईटेक प्रणाली से लैस ट्विटर का सहारा लिया गया था। आजकल सभी लोगों द्वारा यह प्रयोग किया जा रहा है कि अधिक से अधिक ट्विटर और सोशलमीडिया पर अपनी बात लिखकर आमजन के साथ साथ सरकारों तक अपनी बात पहुचाएं l

आजकल हाइटेक प्रणाली से लैस लोगों को ट्विटर रूपी चिड़िया और सोशलमीडिया कितनी बेबस ओर लाचार कर देती है इसका कोई भरोसा नहीं है,चाहे तो विश्व पटल पर राजनीति आकाओं में मशहूर ओर ना चाहे तो राजनीतिक आकाओं से करलें झट से दूर… ऐसा ही वाकया पिछले दो-तीन सालों से हमारे साथ भी हुआ।

जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंडिया की राष्ट्रीय सलाहकार समिति के सदस्य और बाड़मेर के वरिष्ठ पत्रकार राजू चारण ने बताया कि बाड़मेर जिले में पत्रकारिता की जिम्मेदारी देने के बाद से हमेशा मेरी सीमाओं और मर्यादाओं का ध्यान रखते हुए आमजन को राहत कैसे मिलेगी इस सम्बन्ध में ज्यादा सरकारी योजनाओं कापर् प्रचार प्रसार कर जागरूक करने के साथ ही जनता जनार्दन को भ्रामक प्रचार प्रसार करने वाली कभी कोई राजनैतिक ट्वीट नहीं किया। मैंने हमेशा केन्द्र व राज्य सरकार और मुख्यमंत्री भजन लाल शर्मा की बात, राज्य सरकार के द्वारा समय समय पर लिए गए फैसले, जनकल्याणकारी योजनाओं और राज्य सरकार की सकारात्मक मंशा को ही आगे बढ़ाने का प्रयास किया और सरकार के कार्यकलाप और सरकार के साथ मोजूदा मुख्यमंत्री की छवि को धूमिल करने वाले लोगों को तथ्यों के साथ जवाब देकर उनके द्वारा फैलाए जाने वाले भ्रामक प्रचार को रोकने का अथक प्रयास किया।ओर मैं लगभग रोजाना ही इस तरह की कई ट्विटर एक्स पर करता रहता हूं। मेरे इस तरह के ट्वीट से किसी भी रूप में राजनीतिक पार्टी, सरकार की भावनाओं को ठेस नहीं पहुंचे इस पर विशेष रूप से ध्यान रखते है। मेरी मंशा, मेरे शब्द और मेरी भावनाएं किसी को भी किसी रूप में ठेस पहुंचाने वाली नहीं होती है और न ही कभी होगी., फिर भी अगर लगता है ये जान-बूझकर कोई गलती की गयी है तो फिर एक बार हमारे को जरूर बताएं बार बार हमारे ट्विटर एकाउंट को सस्पेंड करने से आमजन में ट्विटर की ही पैठ ख़राब होती होगी हमारी नहीं क्योंकि लोगों को राहत देने के लिए लिखना हमारी स्वच्छ पत्रकारिता का पहला धर्म है ।

आजकल सोशल मीडिया पर ही हमारे राजनीतिक आकाओं द्वारा पत्रकारिता पर सबसे अधिक निवेश किया गया। उसके लिए बाक़ी विषयों को ध्वस्त कर दिया गया। आज राजनीति पत्रकारिता भी पूरी तरह से ध्वस्त हो गई। बड़े बड़े राजनीतिक संपादक और पत्रकार ट्विटरो से कापी कर चैनलों के न्यूज ग्रुप में पोस्ट करते रहते हैं। या फिर ट्विटर पर कोई प्रतिक्रिया देकर डिबेट को आग लगाकर आगे बढ़ाते रहते हैं। बीच बीच में चिढ़ाते भी रहते हैं ! देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित सभी मुख्यमंत्रियों ओर नेताओं की कब कहां पर बैठक करेंगे यह बताने के लिए चैनल अभी भी राजनीतिक पत्रकारों में निवेश कर रहे हैं । साल में दो चार बार जरूर सभी लोगों का मीठा मीठा इंटरव्यू करने के लिए मौजूद रहेंगे लेकिन खट्टा मीठा नहीं कारण कामकाज हो जाएगा ठप्प। जय हो आजकल के हाइटेक प्रणाली के देवताओं की जिनका कोपभाजन का श्राप किसी भी छोटी बड़ी पत्रकारिता करने वाले को नहीं लगेगी।

– राजस्थान से राजूचारण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।