लापरवाही:जीवित महिला को किया मृत घोषित,प्रधान का किया प्रमाणित भी नहीं मान रहा विभाग

वाराणसी/जंसा -जंसा थाना क्षेत्र के मनियारीपुर गाँव निवासी हुबराजी देवी पत्नी कल्लू राम को समाज कल्याण व आपूर्ति विभाग के द्वारा जीवित होने के बाद भी मृत घोषित कर दिए जाने का मामला प्रकाश में आया है।बताया जाता है की हुबराजी देवी के बेटों ने उन्हें छोड़ दिया है।ऐसी विषम परिस्थिति में समाज कल्याण विभाग के अधिकारियो ने भी उन्हें मृत घोषित कर उनकी पेंशन रोक दी इतना ही नही ग्राम प्रधान द्वारा दिए गए जीवित प्रमाण पत्र को भी विभाग मानने से इंकार कर दिया।वही आपूर्ति विभाग ने भी महिला को मृत मानकर उनका राशन कार्ड भी निरस्त कर दिया है।आश्चर्य चकित कर देने वाली बात यह देखने को मिल रही है की किन कारणों से जिन्दा रहते हुए महिला को मृत घोषित किया गया यह बताने में दोनों विभागों के आला अधिकारी असमर्थ है।*

अंतिम विकल्प न्यूज के सम्बददाता को हुबराजी देवी ने बताया की मेरे पति कल्लू राम बुजुर्ग है इस लिए कोई काम नही कर पाते है।वही मेरे दो बेटे सुरेश चन्द्र व श्याम लाल काफी समय पहले ही हम दोनों को छोड़कर अलग रहने लगे है।इसके बाद भी समाज कल्याण व आपूर्ति विभाग ने हमे दोहरी मार दे दी।वर्ष 2016 से समाज कल्याण विभाग ने मेरी पेंशन रोक दी है।अधिकारियो का कहना है की पेंशन के लिए फिर से प्रार्थना पत्र दिया जाय।वही कल्लू राम ने कहा की बार बार विभाग के चक्कर काटने के बावजूद भी कोई सुनवाई नही हुई तो मैंने ग्राम प्रधान से जीवित प्रमाण पत्र बनवा कर विभाग को दिया लेकिन अधिकारियो ने इसे भी मानने से इंकार कर दिया।वही आपूर्ति विभाग ने भी मृत घोषित कर मेरा राशन कार्ड निरस्त करा दिया है।जिससे मुझे राशन मिलना भी बन्द हो गया है,अब ऐसे में रूपये और राशन न मिलने से भुखमरी के कगार पर हम पति-पत्नी पहुँच गए है।वही इस बाबत आपूर्ति निरीक्षक श्याम मोहन सिंह का कहना रहा की मामले की जानकारी मुझे हुई है मैं जाँच करने के लिए बोल दिया हूँ जाच में अगर पात्र पाये गए तो पुनः राशन कार्ड बना दिया जाएगा।वही इस बाबत समाज कल्याण विभाग सेवापुरी श्रवण कुमार बाबू का कहना रहा की इस मामले की जानकारी हमे है सरकार के निर्देशानुसार जो भी पेंशनधारी आधार कार्ड नही दिया है उनकी पेंशन बन्द कर दी जाती है मामले की जाँच कराकर समस्या का निदान करवा देता हूँ।वही इस बाबत लाइसेंसी कोटेदार मनियारीपुर प्रभु नारायण पाण्डेय का कहना रहा की एक वर्ष पूर्व मनियारीपुर बरनी के कोटेदार राज कुमार मौर्या के यहाँ सम्बद्ध था।जब मनियारीपुर गाँव हमारे यहाँ जुड़ा तो पात्र गृहस्थी सूचि में हुबराजी देवी का नाम नही था इसलिये हम राशन नही देते है।फोटो*

*सब्जी बेचकर चलाती हूँ घर का खर्च….हुबराजी*

*अंतिम विकल्प न्यूज के सम्बददाता से हुबराजी देवी ने बातचीत में बताया कि अपना व अपने पति का भरण पोषण करने के लिए शहर से सब्जी खरीदकर लाती है उसके बाद उसे लेकर गाँवों में घूम घूमकर सब्जी को बेचती है जिससे पति-पत्नी का खर्च चलता है।इस दर्दनाक गरीबी के भयावह मंजर को देखते हुए ग्रामीण भी बूढी दादी माँ के समस्या का निवारण करने में अपनी अहम भूमिका मदद कर निभाते रहते है।*

*अधिकारियों की घोर लापरवाही*
*आधार भी दिखाया पर एक न सुने अधिकारी*

*समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों ने कहा की शायद आधार लिंक न होने से ऐसा हुआ होगा।जिस पर हुबराजी देवी ने अपना आधार भी अधिकारियो को दिखाया लेकिन उनकी एक न सुनी गयी।

सम्बददाता-:एस के श्रीवास्तव विकास की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

किसी भी समाचार से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है।समाचार का पूर्ण उत्तरदायित्व लेखक का ही होगा। विवाद की स्थिति में न्याय क्षेत्र बरेली होगा।